Kya hai hanuman chalisa ?| kon hain iske racheta ?

Kya hai hanuman chalisa ?| kon hain iske racheta ? | Aur kya hanuman chalisa hanuman jee ki jiwan vyakhya karti hai ? |क्या है हनुमान चालीसा ?| कौन हैं इसके रचेता ?| और क्या हनुमान चालीसा हनुमान जी की जीवन व्याख्या करती है ?|

क्या है हनुमान चलिश ? और हनुमान चलिश में किसके बारे में बताया गया है 

Kya hai januman chalisa ? Aur hanuman chalisa me kiske bare me btaya gaya hai ?

Hanuman chalisha
हनुमान चालीसा (hanuman chalisa) हिंदुओं की एक धार्मिक किताब है ।
जो महावीर बजरंग बली (lord hanuman) के ऊपर लिखा गया है | और इसमें श्री हनुमान जी (hanuman) की जीवन व्यख्या की गई है | जैसे वह को थे | उनकी क्या महानता थी । कर किस प्रकार उन्होंने श्री राम की रावण से सुध में सहायता किया

Kon  hain iske lekhak ?

कोंन हैं इसके लेखक? 

Hanuman chalisa के लेखक तरह tulsi das jee हैं।
यह पुस्तक उनके वीरता का वर्णन करती है । और कहा जाता है कि इसे पढ़ने से श्री hanuman jee का आशीर्वाद मिलता है और बाधाएं दूर होती हैं ।

#Hanuman chalisa 
हनुमान चालीसा
दोहा
श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।
बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।।

Shri guru charan saroj raja , nij manu mukur sudhar |
Baranaun rathuwar bimal jasu, jo shaakh fal char ||

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।। 

Budhihin tanu janke, sumroun pawan-kumar|
Bal budhi vidya dehu mohin , harahu kalesh bikar ||
Hanuman 


चौपाए

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।
जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।

Jai hanuman gyan guni sagar |
Jai malish tihun lok ujagar ||

रामदूत अतुलित बल धामा।
अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।

Ramdut atulit bal dhama| 
Anjani-putra pawansut nama ||
महाबीर बिक्रम बजरंगी।
कुमति निवार सुमति के संगी।।

Mahavir bikram bajrangi|
Kumati niwar sumati ke sangi ||
कंचन बरन बिराज सुबेसा।
कानन कुंडल कुंचित केशा|

Kanchan viran biraj subidha| 
Kanan kundal kunchit kesa|

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै।
कांधे मूंज जनेऊ साजै।
Hath bajra aur dhwaja viraje|
Kandhe munj janeu saje |

संकर सुवन केसरीनंदन।
तेज प्रताप महा जग बन्दन।।
Shankar suwan keshri nandan|
Tej pratap maha jag bandan||

विद्यावान गुनी अति चातुर।
राम काज करिबे को आतुर।।

Vidyaman guni ati chatur|
Ram kaj karibe ko atur|

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।
राम लखन सीता मन बसिया।

Prabhu charitra sunibe ko rashiya |
Ram lakhan sita man basiya|

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।
बिकट रूप धरि लंक जरावा।।

Sukshm sup dhari siyahin dikhawa|
Vikat rup dhari lank hawa||

भीम रूप धरि असुर संहारे।
रामचंद्र के काज संवारे।।

Bhim rup dhari ashur sanhare |
Ramchandra ke kaj aware|

लाय सजीवन लखन जियाये।
श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।।

Lae sanjivani lakhan jiyaee |
Shri raghuvir harshi ur lae||

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।

Raghupati kinhi bahut badai|
 Tum mam priya bharat hi Sam bhai|

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।
अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।।

 Sahash badan tumhre jas gawen|
Ass kahi shripati kanth lagayen||

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।
नारद सारद सहित अहीसा।।

Sankadik bramhadi manisha|
Narad sharad sahit shisha ||

जम कुबेर दिगपाल जहां ते।
कबि कोबिद कहि सके कहां ते।।

Jan kuber digpal jahan te|
Kabi kobid kahi shake kahan te|

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।
राम मिलाय राज पद दीन्हा।।

Tum upkar sugriwahin kinhi|
Ram milae raj pad din hi||

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।
लंकेस्वर भए सब जग जाना।।

Tumharo mantra vibhishan mana|
Lankeshwar bhae sab jag jana||

जुग सहस्र जोजन पर भानू।
लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

Jug sahaara johan par bhanu|
Lilyo tahi madhur fal janu||

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।
जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।

Prabhu mudrika mel mukh manhu|
Jaladhi langh gae achraj nahi||

दुर्गम काज जगत के जेते।
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

Durgam kaj jagat ke jete |
Sugum anugrah tumhre tete

राम दुआरे तुम रखवारे।
होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।

Ram duare tum rakhate|
Hot n agya bin paisare||

सब सुख लहै तुम्हारी सरना।
तुम रक्षक काहू को डरना।।

Sab sukh lahay tumhre sharna|
Tum rakshak kahu ko darna||

आपन तेज सम्हारो आपै।
तीनों लोक हांक तें कांपै।।

Apan tez samharao appe|
Tino lok hank te kanpe|

भूत पिसाच निकट नहिं आवै।
महाबीर जब नाम सुनावै।।

Bhut pichas nikat nahi away |
Mahavir jab nam sunawaen||

नासै रोग हरै सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बीरा।।

Nasae rog hare sab pira |
Japat nirantar hanumat bira||

संकट तें हनुमान छुड़ावै।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

Sankat tain hanuman churawaen
Man kram bachan dhyan jo lawaen

सब पर राम तपस्वी राजा।
तिन के काज सकल तुम साजा।

Sab par ram tapaswi raja|
Tin ke kaj sakal tum saja |

और मनोरथ जो कोई लावै।
सोइ अमित जीवन फल पावै।।

Aur manorath jo koi lawaen|
Shei amit jiwan fal pawae||

चारों जुग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा।।

Charaon jug partap tumhara |
Hai prashidh jagat ujiyara|

साधु-संत के तुम रखवारे।
असुर निकंदन राम दुलारे।।

Shadhu sant ke tum rakhware|
Ashur nikandan ram dulare|

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।
अस बर दीन जानकी माता।।

Ast shidhi nao nidhi ke dasha
Ash bar din janaki mata|

राम रसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा।।

Ram rashaway tumho pasa|
Shda raho raghupati ke dasha||

तुम्हरे भजन राम को पावै।
जनम-जनम के दुख बिसरावै।।

Tumhro bhajan ram ko paway
Janam janam ke dukh bisraway||

अन्तकाल रघुबर पुर जाई।
जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।।

Antkal raghubar pur jau |
Jahan janm hari bhakt kahau|

और देवता चित्त न धरई।
हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।।

Aur devta chit n dharae |
Hanumat se sarb sukh karae|

संकट कटै मिटै सब पीरा।
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

Sankat kate mite sab pira |
Jo sumrao hanumat balbira|

जै जै जै हनुमान गोसाईं।
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।
Jai jai jai hanuman josai|
Kripa karhu gurudev ki nae

जो सत बार पाठ कर कोई।
छूटहि बंदि महा सुख होई।।

Jo satbar path kar koe|
Chutahi bandi maha sukh hoe|

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।
होय सिद्धि साखी गौरीसा।।

Jo sah padhae hanuman chalisha |
Hoe sidhi shakhi . risha|

तुलसीदास सदा हरि चेरा।
कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।।

Tulshi dash sada hari chera |
Kije nath hriday mah dera|

Hanuman chalisa mp3 song

Comments

Post a Comment

Thanks we are greatful to see you

Popular posts from this blog

Kya hai Shiv tandav stotram ?|kyun iski itni vyakhya ki jati hai ?