Kya hai Shiv tandav stotram ?|kyun iski itni vyakhya ki jati hai ?

Kya hai Shiv tandav stotram ?|kyun iski itni vyakhya ki jati hai ? | Kyun karte the shiv jee (lord shiva) tandav?| Kya hai shiv tandav stotram ko padhne ke fayde ? Shiv tandav lyrics.______________________ क्या है शिव तांडव ? क्यों इसकी इतनी व्हख्य की जाती है? | क्यों करते थे भगवान शिव तांडव ?| क्या फायदे हैं शिव तांडव पढ़ने के |

शिव तांडव(shiv tandav stotram) ravan के द्वारा किये जाने वाला तांडव (नृत्य) है जिससे ravan ने भगवान शिव को प्रभवित किया था और अमर होने का वरदान लिया था और जब भी भगवान शिव क्रोधित होते थे तब वे yah तांडव करते थे। वेद ऋषियों के अनुसार जब शिव जी क्रोधित होकर तांडव करते थे तब पृथ्वी पे भूकंप आता था और दुनिया मे भूचाल आजाता था ।
# Kya hai shiv tandav syotram?
Shiv tandav stotram


Shiv tandav stotram  रावण ke द्वारा kiya gaya tandav ka hai.  Yah shiv jee ki arti hai jisse ham bhagwan shiv ko prabhawit karte hain aur unka ashirvad lete hain .

क्या है शिव तांडव पढ़ने का फायदे ?


प्रात: शिवपुजन के अंत में इस रावणकृत shiv tandav stotram को गाने से लक्ष्मी स्थिर रहती हैं तथा भक्त रथ, गज, घोडा आदि सम्पदा से सर्वदा युक्त रहता है।
कहा जाता है कि शिव तांडव पढ़ने से भगवान शिव प्रभावित होते है और प्रशासन होते हैं । और अपनी कृपा बरसाते हैं ।
और भगवान शिव के सबसे बड़े भक्त रावण ने भी तांडव करके उन्हें प्रशन्न किया था और फिर अमर होने का वरदान मांग लिया था ।

Shiv tandav lyrics 

||सार्थशिवताण्डवस्तोत्रम् ||
||श्रीगणेशाय नमः ||
जटा टवी गलज्जल प्रवाह पावितस्थले, गलेऽवलम्ब्य लम्बितां भुजङ्ग तुङ्ग मालिकाम् |
डमड्डमड्डमड्डमन्निनाद वड्डमर्वयं, चकार चण्डताण्डवं तनोतु नः शिवः शिवम् ||१||

अर्थात

 जिन शिव जी के जता से होते हुवे कंठ से गंगा नदी निकलती है , और चंद्रमा उनकी जता की सोभा बढ़ता है , और जिनके गले में सर्प हर की तरह लटका होता है वो हमारे कल्याण करें ।

जटा कटा हसंभ्रम भ्रमन्निलिम्प निर्झरी, विलो लवी चिवल्लरी विराजमान मूर्धनि |
धगद् धगद् धगज्ज्वलल् ललाट पट्ट पावके किशोर चन्द्र शेखरे रतिः प्रतिक्षणं मम ||२||

अर्थात

         जिन शिव जी के जटा से अतिवेग कर रही हैंल देवी गंगा , की लहरें उनके सीस पर लहर रही है , और जिनके माथे पर अग्नि ज्वलित हो रहा है , और बाल चंद्रमा से शुशोभित हो रही है, उन शिव जी में मेरा प्रतिक्षण बढ़ता है ।

धरा धरेन्द्र नंदिनी विलास बन्धु बन्धुरस् फुरद् दिगन्त सन्तति प्रमोद मानमानसे |
कृपा कटाक्ष धोरणी निरुद्ध दुर्धरापदि क्वचिद् दिगम्बरे मनो विनोदमेतु वस्तुनि ||३||

अर्थात

     जो पार्वती जी के विलासमय रमणिय कटाक्षों में परम आनन्दित चित्त रहते हैं, जिनके मस्तक में सम्पूर्ण सृष्टि एवं प्राणी वास करते हैं, तथा जिनके कृपादृष्टि मात्र से भक्तों की समस्त विपत्तियां दूर हो जाती हैं, ऐसे दिगम्बर (आकाश को वस्त्र सामान धारण करने वाले) शिवजी की आराधना से मेरा चित्त सर्वदा आन्दित रहे।
लता भुजङ्ग पिङ्गलस् फुरत्फणा मणिप्रभा कदम्ब कुङ्कुमद्रवप् रलिप्तदिग्व धूमुखे |
मदान्ध सिन्धुरस् फुरत् त्वगुत्तरीयमे दुरे मनो विनोद मद्भुतं बिभर्तु भूतभर्तरि ||४||

अर्थात

मैं उन शिवजी की भक्ति में आन्दित रहूँ जो सभी प्राणियों के आधार एवं रक्षक हैं, जिनके जाटाओं में लिपटे नागदेवों के फण की मणियों के प्रकाश पीले वर्ण प्रभा-समुहरूपकेसर के कातिं से दिशाओं को प्रकाशित करते हैं और जो गजचर्म से विभुषित हैं। 
सहस्र लोचनप्रभृत्य शेष लेखशेखर प्रसून धूलिधोरणी विधूस राङ्घ्रि पीठभूः |
भुजङ्ग राजमालया निबद्ध जा टजूटक श्रियै चिराय जायतां चकोर बन्धुशेखरः ||५||
       

अर्थात

जिन शिव जी का चरण इन्द्र-विष्णु आदि देवताओं के शर के पुष्पों के धूल से रंजित हैं (जिन्हे देवतागण अपने सर के पुष्प अर्पन करते हैं), जिनकी जटा पर लाल सर्प विराजमान है, वो चन्द्रशेखर हमें चिरकाल के लिए सम्पदा दें।


ललाट चत्वरज्वलद् धनञ्जयस्फुलिङ्गभा निपीत पञ्चसायकं नमन्निलिम्प नायकम् |
सुधा मयूखले खया विराजमानशेखरं महाकपालिसम्पदे शिरोज टालमस्तु नः ||६||
         

अर्थात

    
जिन शिव जी ने इन्द्रादि देवताओं का गर्व दहन करते हुए, कामदेव को अपने विशाल मस्तक की आग  ज्वाला से भस्म कर दिया, तथा जो सभि देवों द्वारा पुज्य हैं, तथा चन्द्रमा और गंगा द्वारा सुशोभित हैं, वे मुझे सिद्दी प्रदान करें।
कराल भाल पट्टिका धगद् धगद् धगज्ज्वल द्धनञ्जयाहुती कृतप्रचण्ड पञ्चसायके |
धरा धरेन्द्र नन्दिनी कुचाग्र चित्रपत्रक प्रकल्प नैक शिल्पिनि त्रिलोचने रतिर्मम |||७||
         

अर्थात

  
जिनके मस्तक से धक-धक करती प्रचण्ड ज्वाला ने कामदेव को भस्म कर दिया तथा जो शिव पार्वती जी के स्तन के अग्र भाग पर चित्रकारी करने में अति चतुर है ( यहाँ पार्वती प्रकृति हैं, तथा चित्रकारी सृजन है), उन शिव जी में मेरी प्रीति अटल हो।

नवीन मेघ मण्डली निरुद् धदुर् धरस्फुरत्- कुहू निशीथि नीतमः प्रबन्ध बद्ध कन्धरः |
निलिम्प निर्झरी धरस् तनोतु कृत्ति सिन्धुरः कला निधान बन्धुरः श्रियं जगद् धुरंधरः ||८||
         

अर्थात

     
जिनका कण्ठ नवीन मेंघों की घटाओं से परिपूर्ण आमवस्या की रात्रि के सामान काला है, जो कि गज-चर्म, गंगा एवं बाल-चन्द्र द्वारा शोभायमान हैं तथा जो कि जगत का बोझ धारण करने वाले हैं, वे शिव जी हमे सभि प्रकार की सम्पनता प्रदान करें।

प्रफुल्ल नीलपङ्कज प्रपञ्च कालिम प्रभा- वलम्बि कण्ठकन्दली रुचिप्रबद्ध कन्धरम् |
स्मरच्छिदं पुरच्छिदं भवच्छिदं मखच्छिदं गजच्छि दांध कच्छिदं तमंत कच्छिदं भजे ||९||
             

अर्थात

जिनका कण्ठ और कन्धा पूर्ण रूप से खिले हुए नीलकमल की फैली हुई सुन्दर श्याम प्रभा से विभुषित है, जो कामदेव और त्रिपुरासुर के विनाशक, संसार के दु:खो6 के काटने वाले, दक्षयज्ञ विनाशक, गजासुर एवं अन्धकासुर के संहारक हैं तथा जो मृत्यू को वश में करने वाले हैं, मैं उन शिव जी को भजता हूँ

अखर्व सर्व मङ्गला कला कदंब मञ्जरी रस प्रवाह माधुरी विजृंभणा मधुव्रतम् |
स्मरान्तकं पुरान्तकं भवान्तकं मखान्तकं गजान्त कान्ध कान्त कं तमन्त कान्त कं भजे ||१०||
           

अर्थात

जो कल्यान के विषय में सोचे , अविनाशि, समस्त कलाओं के रस का अस्वादन करने वाले हैं, जो कामदेव को भस्म करने वाले हैं, त्रिपुरासुर, गजासुर, अन्धकासुर के सहांरक, दक्षयज्ञविध्वसंक तथा स्वयं यमराज के लिए भी यमस्वरूप हैं, मैं उन शिव जी को भजता हूँ।

जयत् वदभ्र विभ्रम भ्रमद् भुजङ्ग मश्वस – द्विनिर्ग मत् क्रमस्फुरत् कराल भाल हव्यवाट् |
धिमिद्धिमिद्धिमिध्वनन्मृदङ्गतुङ्गमङ्गल ध्वनिक्रमप्रवर्तित प्रचण्डताण्डवः शिवः ||११||
             

अर्थात

अतयंत वेग से भ्रमण कर रहे सर्पों के फूफकार से क्रमश: ललाट में बढी हूई प्रचंण अग्नि के मध्य मृदंग की मंगल करने वाले उच्च धिम-धिम की ध्वनि के साथ ताण्डव नृत्य में लीन शिव जी सर्व प्रकार सुशोभित हो रहे हैं।

स्पृषद्विचित्रतल्पयोर्भुजङ्गमौक्तिकस्रजोर्- – गरिष्ठरत्नलोष्ठयोः सुहृद्विपक्षपक्षयोः |
तृष्णारविन्दचक्षुषोः प्रजामहीमहेन्द्रयोः समप्रवृत्तिकः ( समं प्रवर्तयन्मनः) कदा सदाशिवं भजे ||१२||
               

अर्थात

कठोर पत्थर एवं कोमल शय्या, सर्प एवं मोतियों की मालाओं, अनमोल रत्न एवं मिट्टी के टुकड़ों , सत्रु एवं मित्रों, राजाओं तथा प्रजाओं, तिनकों तथा कमलों पर सामान्य दृष्टि रखने वाले शिव को मैं भजता हूँ।

कदा निलिम्पनिर्झरीनिकुञ्जकोटरे वसन् विमुक्तदुर्मतिः सदा शिरः स्थमञ्जलिं वहन् |
विमुक्तलोललोचनो ललामभाललग्नकः शिवेति मंत्रमुच्चरन् कदा सुखी भवाम्यहम् ||१३||
               

अर्थात

कब मैं गंगा जी के कछारगुञ में निवास करता हुआ, निष्कपट हो, सिर पर अंजली धारण कर चंचल आंखों तथा ललाट वाले शिव जी का मंत्रोच्चार करते हुए अक्षय सुख को प्राप्त करूंगा।

इदम् हि नित्यमेवमुक्तमुत्तमोत्तमं स्तवं पठन्स्मरन्ब्रुवन्नरो विशुद्धिमेतिसंततम् |
हरे गुरौ सुभक्तिमाशु याति नान्यथा गतिं विमोहनं हि देहिनां सुशङ्करस्य चिंतनम् ||१४||

अर्थात               

इस उत्त्मोत्त्म शिव ताण्डव स्त्रोत को नित्य पढने या श्रवण करने मात्र से प्राणि पवित्र हो, परंगुरू शिव में स्थापित हो जाता है तथा सभी प्रकार के भ्रमों से मुक्त हो जाता है।

● उसके फायदे 
पूजा वसान समये दशवक्त्र गीतं यः शंभु पूजन परं पठति प्रदोषे |
तस्य स्थिरां रथगजेन्द्र तुरङ्ग युक्तां लक्ष्मीं सदैव सुमुखिं प्रददाति शंभुः ||१५||
Shiv tandav stotram in the voice of Shankar mahadevan
Hindi men
सुबह शिवपुजन के अंत में इस रावणकृत shiv tandav stotram को गाने से लक्ष्मी स्थिर रहती हैं तथा भक्त रथ, गज, घोडा आदि सम्पदा से सर्वदा युक्त रहता है।

Yah tha shiv tandav stotram ka lyrics 
Aur padhiye shri Hanuman chalisa ke lyrics

Comments

Post a Comment

Thanks we are greatful to see you

Popular posts from this blog

Kya hai hanuman chalisa ?| kon hain iske racheta ?